2080mars

Just another weblog

44 Posts

52 comments

june


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

गर्व करो मैं नारी हूँ

Posted On: 8 Mar, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

समर्पण-valentine contest

Posted On: 12 Feb, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

Posted On: 12 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

जब मैं छोटा बच्चा था

Posted On: 8 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

7 Comments

Posted On: 8 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

महंगाई या…………………………सरकार के हाथ की सफाई

Posted On: 26 Jun, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

3 Comments

मैं शक्ति हूँ

Posted On: 26 Jun, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

निंदक नियरे राखिये ……………………..

Posted On: 24 Jun, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

7 Comments

उसकी साड़ी मेरी साड़ी से सफ़ेद कैसे

Posted On: 24 Jun, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

हत्या का नया नाम (honour kiliing )

Posted On: 23 Jun, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

Page 1 of 512345»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: chaatak chaatak

निखिल जी न जाने कैसे आपने ये समझ लिया की मुझे कुछ बुरा लगा , आपकी प्रतिक्रिया पर मैंने प्रतिक्रिया व्यक्त की बस इतनी सी बात है, और आपसे तो नाराज़गी हो ही नहीं सकती क्योंकि आप तो मेरे ब्लॉग के कमेन्ट ओपनर हैं , इस ब्लॉग पर मेरी पहली दोस्ती आप से ही है . मैंने आपकी सभी रचनाये पढ़ी हैं, लेकिन उन पर पहले से ही इतनी प्रतिक्रियाएं होती हैं की मेरे लिए जगह ही नहा बचती , फिर भी मैं क्षमाप्रार्थी हूँ, और आपकी प्रंशसक भी क्योंकि आप स्त्रियों की समस्याओं को भली भांति समझते हैं, क्योंकि यह भी एक विडम्बना है की औरत ही औरत की दुश्मन भी होती है, और जब पुरुष वर्ग समस्याओं को समझाने का प्रयास करता है तो ख़ुशी होती है.

के द्वारा:

रितु जी, आपकी राय बिलकुल सही है और आप निखिल जी को भी गलत मत समझिये छीटाकशी शब्द से इनका ताल्लुक तरंगी कमेंट्स से है इरादतन या अनजाने में भी दिल दुखाने से नहीं | और हाँ यहाँ को भी मज़ा हुआ नहीं है सारे मंज रहे हैं | हममे से अधिकतर लोग पूरे दिन मन और शरीर को तोड़ देने वाले काम करते हैं उसमे इस मंच पे आकर एक दूसरे पर कमेंट्स करके थोडा मजा भी ले लेते हैं, जहाँ वैचारिक मामला होता है सभी चूंकि प्रबुद्ध वर्ग के हैं बड़ी गंभीरता से विचार कर टिप्पड़ियाँ करते हैं | अक्सर हम लोगों में मतैक्य नहीं होता पर एक दुसरे की टिप्पड़ी पर पूर्वाग्रह से मुक्त रह कर सहमत या असहमत भी होते हैं | अब ताऊ वाली बात | ये निखिल जी की बिलकुल नाइंसाफी है | मैं इनकी एक और शिकायत आप से कर दूं | अभी थोड़ी देर पहले इन्होने मेरे ब्लॉग पे मुझे 'गब्बर' भी कहा और प्रतिक्रिया न देने पर एक छिपी हुई धमकी भी दी है| इनको जरा समझा लीजिये | आशा है आप अब नाराज नहीं होंगी | Lets join hands together for the better !

के द्वारा:

के द्वारा: Nikhil Nikhil

के द्वारा: june june

के द्वारा: june june

के द्वारा:




latest from jagran